ब्रेकिंग न्यूजराजनीति

सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर भाजपा के साथ फिर आने को बेताब: अनिल राजभर

गाजीपुर। योगी सरकार के मंत्री अनिल राजभर की मानी जाए तो सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर भाजपा के साथ फिर आने को बेताब हैं।

रॉयल पैलेस बंशीबाजार में बुधवार को भाजपा के बैनर तले हुए महाराजा सुहेलदेव राजभर चेतना सम्मेलन में उन्होंने कहा-ओमप्रकाश राजभर को भाजपा का साथ छूटने का पछतावा हो रहा है। उनकी ओर से मेरे पास और मनोज सिन्हा, उपेंद्र तिवारी, दयाशंकर सिंह आदि के पास यह पैरवी आ रही है कि अमित शाह से सेटिंग करा कर उनकी फिर से भाजपा का साथ सुनिश्चित कराया जाए।

इस मौके पर अनिल राजभर ने सुभासपा अध्यक्ष पर जुबानी बाण भी खूब दागे। यहां तक कहे कि सुभासपा अध्यक्ष राजभर समाज के लिए कलंक हैं।

उन्होंने ओवैसी से सुभासपा अध्यक्ष के गठजोड़ पर टिप्पणी करते हुए कहा कि महाराजा सुहेलदेव मान सम्मान के लिए जिस समुदाय से सदैव संघर्ष करते रहे, उसी समुदाय से सुभासपा अध्यक्ष ने हाथ मिला लिया है। उनका यह कदम धिक्कारने वाला है और इलके लिए राजभर समाज उन्हें कभी माफ नहीं करेगा।

अनिल राजभर इतने पर ही नहीं रुके। कहे- सुभासपा अध्यक्ष अव्वल दर्जे के स्वार्थी हैं। जब भी उन्हें मौका मिलता है तब अपने परिवार और रिश्तेदारों को आगे बढ़ाते हैं जबकि भाजपा कि नीति समाज के निचले वर्ग को ऊपर उठाने की है। सब्जी बेचने वाले विजय राजभर को आगे जाने का मौका देती है। सकलदीप राजभर जैसे गरीब को सांसद बना कर प्रधानमंत्री के बगल में बैठने का मौका देती है।

सम्मेलन को भाजपा विधायक सुनीता सिंह जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह के अलावा प्रेमसागर, मुराहू राजभर, जयप्रकाश राजभर, नंदा राजभर, अवधेश राजभर, इतवारी राजभर आदि ने भी संबोधित किया। सम्मेलन का शुभारंभ महाराजा सुहेलदेव सहित पं. दीनदयाल उपाध्याय व डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन तथा माल्यार्पण के साथ हुआ। अध्यक्षता मुसाफिर राजभर व संचालन भाजयुमो के काशी क्षेत्र अध्यक्ष राजेश राजभर ने किया।

सम्मेलन में लालसा राजभर, अरुण राजभर, मनोज राजभर, संजय राजभर, अकाश राजभर, राजा राजभर, श्रवण राजभर, सुरेश बिंद, धनेश्वर बिंद, मीडिया प्रभारी शशिकांत शर्मा, आईटी विभाग संयोजक कार्तिक गुप्त, मयंक जायसवाल, संदीप सिंह सोनू, अजीत सिंह, विश्वप्रकाश अकेला आदि भी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें—…जब डोम समुदाय की रेशमा फहराई तिरंगा

मालूम हो कि यह कोई पहला मौका नहीं है जब सुभासपा अध्यक्ष को लेकर भाजपा छोड़ने के पछतावे की बात भाजपा की ओर से कही गई है। इसके पहले भाजपा एमएलसी विशाल सिंह चंचल बाराचवर इलाके में हुए पार्टी के कार्यक्रम में भी लगभग यही बात कही थी। हालांकि चंचल की उस बात को ‘आजकल समाचार’ से चर्चा करते हुए सुभासपा अध्यक्ष ने सिरे से खारिज करते हुए उसे भाजपा की शोसेबाजी करार दिया था।

आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

Related Articles

Back to top button
AllEscortAllEscort