ब्रेकिंग न्यूजराजनीति

सपाइयों की ट्रैक्टर रैली, कई जगह पुलिस से धक्का-मुक्की, हिरासत में लिए गए विधायक सहित 60 नेता

गाजीपुर। किसानों की ट्रैक्टर रैली के समर्थन में गाजीपुर में भी मंगलवार को समाजवादी पार्टी के लोगों ने ट्रैक्टर रैली निकाली। पदयात्रा की और विरोध-प्रदर्शन किया। इसको लेकर प्रशासन अलर्ट था। बावजूद पार्टी नेता और कार्यकर्ता ट्रैक्टरों पर सवार होकर प्रदर्शन के लिए निकले लेकिन तहसील मुख्यालयों पर पहुंचने से पहले ही उन्हें बल पूर्वक पुलिस ने रोक दिया। शहर कोतवाली सहित मुहम्मदाबाद में विधायक डॉ.वीरेंद्र यादव, जिलाध्यक्ष रामधारी यादव सहित कुल 60 नेता हिरासत में लिए गए। बाद में उन्हें निजी मचलके पर छोड़ भी दिया गया। पूर्व सांसद राधेमोहन सिंह की अगुवाई में निकली ट्रैक्टर रैली ने सबसे लंबी दूरी तय की लेकिन उन्हें भी सैदपुर तहसील मुख्यालय तक नहीं पहुंचने दिया गया। ट्रैक्टर रैली आगे बढ़ाने की कोशिश में कुछ जगह पुलिस से धक्का-मुक्की भी हुई।

सदर विधानसभा क्षेत्र की ट्रैक्टर रैली पार्टी कार्यालय लोहिया भवन से जिलाध्यक्ष रामधारी यादव के नेतृत्व में निकली लेकिन उनके ट्रैक्टर आरके-वीके के पास रोक दिए गए। उन्हें हिरासत मे ले लिया गया लेकिन उनके आग्रह पर समता भवन में तिरंगा फहराने का मौका दिया गया। उधर जंगीपुर विधायक डॉ.वीरेंद्र यादव ने खुद ट्रैक्टर चलाते हुए ट्रैक्टर रैली की अगुवाई की। रैली चौकियां से शुरू हुई लेकिन रेलवे क्रासिंग पर ही उन्हें रोक दिया गया। उसके बाद वह अपने लोगों को लेकर वहीं धरने पर बैठ गए। जहां से विधायक समेत 35 लोग हिरासत में लेकर शहर कोतवाली लाए गए। पूर्व जिलाध्यक्ष राजेश कुशवाहा भी अपने आवास से ट्रैक्टर रैली लेकर सदर तहसील मुख्यालय के लिए चले लेकिन कुछ ही देर बाद उन्हें भी रोक दिया गया। उधर जमानियां विधानसभा क्षेत्र में पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह अपने गांव सेवराई से ट्रैक्टर रैली लेकर निकले लेकिन सेवराईं तहसील मुख्यालय से पहले ही रेलवे क्रासिंग पर रोक दिया गया। मुहम्मदाबाद विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ता अध्यक्ष हरिनारायण यादव की अगुवाई में उसरी चट्टी से ट्रैक्टरों पर सवार होकर तहसील मुख्यालय के लिए बढ़े लेकिन सभी 25 लोग हिरासत में ले लिए गए। जमानियां, कासिमाबाद, जखनियां तहसील मुख्यालय पर भी विरोध प्रदर्शन की खबर है लेकिन पूर्व सांसद राधेमोहन सिंह प्रशासन की पेशानी पर बल जरूर डाल दिए। वह अपने पैतृक गांव करमपुर से लगभग 50 ट्रैक्टरों की रैली लेकर एकदम सैदपुर तक पहुंच गए। वह खुद ट्रैक्टर चला रहे थे। यह सूचना मिलते ही अधिकारी हरकत में आ गए। पुलिस फोर्स ने उनकी रैली को नई सड़क सैदपुर पर बलपूर्वक रोका। तब उन्होंने अपनी ट्रैक्टर रैली को सभा के रूप में बदल दिया। उनके साथ खेदन यादव, रामबचन यादव, मुन्ना यादव, विजय सिंह, कार्तिक सिंह, तकदीर सिंह, मनोज सिंह, दिनेश सिंह, गुड्डू सिंह, रामप्रवेश सिंह आदि थे। राधेमोहन सिंह की सभा की खबर मिलने पर अपने कार्यालय में रोके गए पार्टी विधायक सुभाष पासी को भी बल मिला। वह भी उस सभा में पहुंच गए।

ट्रैक्टर मालिकों पर था प्रशासन का खौफ!

एकतरह से सपाई मनचाही संख्या में ट्रैक्टरों के लिए तरस गए। बहुतेरे पार्टी नेता, कार्यकर्ता चाहकर भी रैली के लिए ट्रैक्टर जुटा नहीं पाए। मुंहमांगा भाड़ा का उनके प्रस्ताव पर भी मालिक अपने ट्रैक्टर उपलब्ध नहीं कराए। पता चला कि थानेदारों ने अपने इलाके के ट्रैक्टर मालिकों को यह मौखिक संदेश भेजवा दिया था कि अगर उनके ट्रैक्टर रैली में गए तो अपने ट्रैक्टरों पर कड़ी कार्रवाई के लिए वह खुद जिम्मेदार होंगे। उस चेतावनी के चलते सपा समर्थकों ने भी रैली के लिए ट्रैक्टर उपलब्ध कराने से भरसक परहेज ही किया। अलबत्ता, पार्टी के हार्डकोर कार्यकर्ता जरूर अपने ट्रैक्टर लेकर रैली में शामिल होने का साहस जुटाए। पार्टी नेता भी अपने खुद के ट्रैक्टर लेकर आए थे।

यह भी पढ़ें–मनोज सिन्हा का `फारुख लुक`!

आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें 

 

 

Related Articles

Back to top button
AllEscortAllEscort