ब्रेकिंग न्यूजराजनीति

योगी के मंत्री पर सपा जिलाध्यक्ष का पलटवार, बोले-मासूम संग दुष्कर्म के लिए भाजपा सरकार जिम्मेदार

गाजीपुर। बहरियाबाद थाना क्षेत्र का मासूम संग दुष्कर्म कांड भाजपा और सपा के बीच सियासी जंग बनता जा रहा है।

इस कांड को मुद्दा बनाते हुए योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर के सपा पर करारा हमले का जवाब अब सपा की ओर से आया है। सपा जिलाध्यक्ष रामधारी यादव की अगुवाई में पार्टी का प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को पीड़ित परिवार से मिलने उनके गांव पहुंचा और अस्पताल में जाकर पीड़ित मासूम का भी हाल जाना।

इस मौके पर पार्टी जिलाध्यक्ष ने योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर के कथन की चर्चा करते हुए कहा कि अव्वल तो अपराधी की कोई जाति नहीं होती। रही बात समाजवादी पार्टी की तो यह बराबर जुल्म और अन्याय के खिलाफ खड़ी रहती है। पार्टी को अपराधियों की जाति से कुछ भी लेना देना नहीं होता।  जुल्म और ज्यादती के खिलाफ लड़ने का समाजवादियों का इतिहास रहा है। श्री यादव ने कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर का नाम लेते हुए कहे कि उनका बयान उनकी ओछी और जातिवादी मानसिकता का परिचायक है। बल्कि उन्हें तो इस बात का पछतावा होना चाहिए कि उनकी सरकार इस तरह की घटनाओं को रोकने में पूरी तरह विफल है। मासूम संग हुई शर्मनाक घटना सरकार की नाकामी का ही नतीजा है। प्रदेश में चारों तरफ जंगलराज कायम है। बहू-बेटियों का घर से निकलना दूभर हो गया है। गुंडों और बदमाशों पर पुलिस का कोई खौफ नहीं है। गुंडे थाने चला रहे हैं और पुलिस माफियाओं के घर जाकर सलामी ठोक रही है। अपराधी बेखौफ घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। उनका कहना था कि भाजपा राज में कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त है। इस दशा में भाजपा को नैतिकता के आधार पर सरकार से त्याग पत्र दे देना चाहिए।

सपा के प्रतिनिधिमंडल में प्रतिनिधिमंडल में पार्टी की जखनियां विधानसभा क्षेत्र इकाई के अध्यक्ष कमलेश यादव भानु, आमिर अली, लल्लन राम, सिकंदर कनौजिया, लालजी राम, संजय कनौजिया, निसार अहमद, राजू यादव आदि थे।

मालूम हो कि रविवार को योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर पूरे लावलश्कर के साथ पीड़ित मासूम के घर पहुंचे थे और उसके स्वजनों को आरोपी अंगद यादव के विरुद्ध सख्त सजा दिलाने का भरोसा देते हुए सपा पर हमला किए थे। कहे थे कि सपा के लोग आरोपी अंगद यादव को बचाने में लग गए हैं। यहां तक कि घटना के बाद उसे पुलिस से बचाने की भरसक कोशिश की। इसके लिए उसे फरारी के वक्त शरण तक दिए। कैबिनेट मंत्री ने आरोपी की शीघ्र गिरफ्तारी के लिए गाजीपुर पुलिस को शाबाशी भी दी थी।

सात साल की बालिका के साथ शुक्रवार की शाम दुष्कर्म हुआ था जब वह अपने घर के बाहर खेल रही थी। पड़ोस में रहने वाला आरोपी उसे बहला-फुसलाकर अपने घर के एक कमरे में ले गया और उसके साथ अपनी वाली कर भाग गया था। बालिका की चित्कार पर लोगों को उसकी जानकारी हुई थी।

यह भी पढ़ें–अरे! लेखपाल की यह करतूत

आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

Related Articles

Back to top button
AllEscortAllEscort