अपराधब्रेकिंग न्यूजराजनीति

पंचायत चुनाव पर माफियाओं की नजर!

गाजीपुर (सुजीत सिंह प्रिंस)। जुर्म की दुनिया के साथ ही सियासत में भी दखल रखने का ख्वाब पाल रहे ‘शातिर’ पंचायत चुनाव को भी महफूज मौका मान रहे हैं। इस चुनाव में वह धमाकेदार इंट्री की तैयारी में हैं। कम से कम पूर्वांचल में तो यही स्थिति है।  हालिया हुई घटनाओं ने भी यही संकेत दिए हैं।

मऊ के मुहम्मदाबाद-गोहना ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि अजीत सिंह की लखनऊ में हुई दुस्साहसिक हत्या के एक एंगल को पंचायत चुनाव से भी जोड़ा गया। मुहम्मदाबाद-गोहना ब्लाक प्रमुख के पिछले दो चुनावों से अजीत सिंह सब पर भारी पड़ते रहे हैं। उनकी यह हैसियत प्रदेश के टॉप टेन अपराधी ध्रुव सिंह उर्फ कुंटू सिंह को शुरू से अखरती रही है। इस बार के चुनाव में वह अजीत सिंह का मुहम्मदाबाद-गोहना से पत्ता काटना चाहता है। इसी लिए उसने उनकी हत्या कराई। इसी तरह मऊ के ही परदहां ब्लाक का प्रमुख रमेश सिंह उर्फ काका है। वह भी फिर प्रमुख बनने के लिए चुनाव में उतरने की पूरी तैयारी में है। वह भी प्रदेश के टॉप टेन अपराधियों की सूची में है। मऊ के ही रानीपुर ब्लाक प्रमुख की कुर्सी पर बैठने की दिली ख्वाहिश अर्से से बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी का शॉर्प शूटर अनुज कनौजिया की भी है।

गाजीपुर से ही सटे चंदौली जिले के चहनियां ब्लाक प्रमुख पद पर एक बार फिर उपेंद्र सिंह गुड्डू काबिज होना चाहता है। वह बाहुबली एमएलसी बृजेश सिंह का शॉर्प शूटर माना जाता है।

इधर गाजीपुर के सादात ब्लाक प्रमुख पद पर कुख्यात अपराधी संजय यादव की निगाह है। वह मूलत: गाजीपुर के बहरियाबाद थाने के बुढ़नपुर का रहने वाला है और वर्तमान में खुद आजमगढ़ के जहानागंज ब्लाक का प्रमुख है। उसका भाई ओंकार नाथ यादव सादात प्रमुख के लिए अपना चुनाव अभियान भी शुरू कर चुका है। इसी क्रम में वह सादात ब्लाक प्रमुख आरती सिंह के गांव कनेरी पहुंचा था। जहां आरती सिंह के प्रतिनिधि कमलेश सिंह उर्फ हकाड़ू से उसकी झड़प भी हुई थी। हालांकि खुद हकाड़ू सिंह की छवि भी साफ सुथरी नहीं है। बाहुबली एमएलसी बृजेश सिंह के राइट हैंड अजय खलनायक पर चली गोली के मामले में वह भी नामजद थे।

जाहिर है कि अंडरवर्ल्ड से जुड़े पूर्वांचल के यह कुख्यात चेहरे पंचायत चुनाव में पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन सकते हैं। इस सिलसिले में हुई चर्चा पर डीआईजी आजमगढ़ सुभाष दूबे कहते हैं- शासन की मंशा के अनुरूप पुलिस पंचायत चुनाव निष्पक्ष और शांतिपूर्ण कराने के लिए प्रतिबद्ध है। एंटी सोशल एलिमेंट पुलिस के राडार पर हैं। उनके विरुद्ध गैंगस्टर, गुंडा एक्ट के अलावा 107,116 सहित अन्य कठोरतम कार्रवाई की जा रही है। सरनामियों की राजनीतिक गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है।

यह भी पढ़ें—शेरपुर: कलॉ को खुर्द की चुनौती!

आजकल समाचार की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

 

Related Articles

Back to top button
AllEscortAllEscort