ब्रेकिंग न्यूजसख्शियत

अपनी प्रतिभा के बूते डॉ.बृजेंद्र को मिली रक्षा मंत्री की पितृत्व छाया

गाजीपुर। कोई निहायत गरीब परिवार के बच्चे को किसी सामर्थ्यवान का दत्तक पुत्र होना संयोग अथवा उसका सौभाग्य हो सकता है लेकिन सैदपुर नगर के मदारीपुर मुहल्ले के डॉ.बृजेंद्र कुमार का देश के रक्षा मंत्री का दत्तक पुत्र बनने के पीछे की कहानी के केंद्र में है उनकी खुद की मेधा।

मूलतः पड़ोसी जिला आजमगढ़ के वीरपुर गांव के रहने वाले डॉ. बृजेंद्र कुमार अपने मां-पिता के तीन पुत्रों में सबसे बड़े हैं। दुर्भाग्य यह कि असमय ही इन तीनों के सिर से पिता जगन्नाथ राम की साया छिन गई। अभागन मां सुशीला देवी मासूम बेटों बृजेंद्र, विपिन और मंजेश को लेकर अपने मायके मदारीपुर सैदपुर आ गईं। यहीं वह जैसे-तैसे इनकी परवरिश करने लगीं लेकिन सुशीला देवी उस दशा में भी बेटों की शिक्षा-दीक्षा को लेकर तत्पर रहीं।

बृजेंद्र बाल्यावस्था से ही कुशाग्र बुद्धि के थे। एक रिश्तेदार की पहल पर उनका वाराणसी के राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय में नामांकन हुआ। साल 2000-2001 में कक्षा आठ की बोर्ड परीक्षा में वह पूरे प्रदेश में प्रथम स्थान पर रहे।

बस वहीं से बृजेंद्र की जिंदगी में नया मोड़ आया। आश्रम पद्धति विद्यालय के इस मेधावी बृजेंद्र की वह उपलब्धि प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह तक पहुंची। वह इन्हें गोद लेकर उनकी पूरी जिम्मेदारी उठाने का निर्णय किए। फिर तो राजनाथ सिंह के अभिभावकत्व में बृजेंद्र की आगे की पढ़ाई शुरू हुई। वह एमबीबीएस की प्रवेश परीक्षा में सफल हुए और बिहार के किशनगंज स्थित माता गुजरी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज से में दाखिला लिए।

एमबीबीएस की डिग्री लेने के बाद बृजेंद्र दिल्ली में कुछ दिनों तक संविदा पर चिकित्सक की नौकरी किए। उसके बाद इनका चयन उत्तर प्रदेश चिकित्सा सेवा के लिए हो गया। वर्तमान में वह अयोध्या जिले मे सीएचसी गोसाईंगंज में सेवारत हैं। बृजेंद्र के मझले भाई विपिन भी बड़े भाई से प्रेरित हैं और स्नातक के बाद दिल्ली में सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहे हैं जबकि सबसे छोटा भाई मंजेश अभी बीएड की पढ़ाई कर रहा है।

बृजेंद्र की मां सुशीला देवी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को भगवान मानती हैं। कहती हैं-वह हमारे परिवार के लिए भगवान स्वरूप हैं। उनके चलते ही आज बृजेंद्र इस मुकाम पर है। बृजेंद्र पर आज भी राजनाथ जी का आशीर्वाद मिलता है। अपनी व्यस्तता के बावजूद राजनाथ सिंह  बृजेंद्र को उनकी शादी पर आशीर्वाद देने के लिए घर आए। इसे सुशीला देवी अपना अहो भाग्य मानती हैं। राजनाथ सिंह के साथ केंद्रीय मंत्री डॉ.महेंद्रनाथ भी वर-वधू को आशीर्वाद देने आए। इसके लिए सुशीला देवी उनके लिए भी आभार जताती हैं। डॉ.बृजेंद्र की शादी गाजीपुर के ही अनौनी के इटहा की कृतिका से हुई है। उनके पिता आयुध फैक्टरी में हैं।

…और राजनाथ सिंह ने किया ट्विट

डॉ.बृजेंद्र कुमार और उनकी पत्नी कृतिका को आशीर्वाद देकर लौटने के कुछ ही देर बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्विट किया-`जब मैं उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री था तो एक बच्चे की पढ़ाई-लिखाई की जिम्मेदारी मैंने उठाई थी। वह बच्चा पढ़ लिखकर डॉक्टर बना। आज उसी डॉ.बृजेंद्र के विवाह समारोह में उसके घर जाकर शामिल हुआ और उसे अपनी शुभकामनाएं दी। मेरे लिए निश्चित रूप से यह एक बड़े संतोष और आनंद का क्षण है`।

यह भी पढ़ें–…पर रक्षा मंत्री की गाड़ी किसके लिए रुकी

आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

 

Related Articles

Back to top button
AllEscortAllEscort