अपराधब्रेकिंग न्यूज

सीएमएस ऑफिस के कंप्यूटर ऑपरेटर पर हमला, खुलेआम लहराए गए असलहे

गाजीपुर। डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल के सीएमएस ऑफिस के कंप्यूटर ऑपरेटर वारिस अली को उनके  ही पटीदारों ने हमला कर घायल कर दिया। बुधवार की सुबह करीब साढ़े आठ बजे शहर कोतवाली के चौकिया गांव में हुई यह घटना रास्ता विवाद का नतीजा बताई गई है। इस मामले में पुलिस हमलावरों के विरुद्ध गंभीर धाराएं लगाने के बजाए दोनों पक्षों के कुल दो लोगों का 151 में चालान कर अपना फर्ज पूरा मान ली जबकि हमलावर परिवार का मुखिया मजहर हुसैन मौके पर सरेआम अपना लाइसेंसी बंदूक लहराते हुए दूसरे पक्ष के लोगों को आतंकित करता रहा। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

हमले में जख्मी वारिस अली की ओर से कोतवाली में दी गई तहरीर के मुताबिक वह अपने खेत से घर लौट रहे थे उसी बीच लाठी डंडे से लैस मजहर हुसैन तथा उनके दोनों बेटे महताब तथा अलताफ के अलावा जफर, अशरफ अली व अरशद जमाल उन्हें घेर कर उन पर पिल पड़े। गनीमत रही कि वारिस के पक्ष के शाहिद अली, नरेंद्र कुशवाहा, मेवालाल, पंकज वगैरह मौके पर पहुंच कर किसी तरह उन्हें हमलावरों के चंगुल से मुक्त कराए। हमलावरों में शामिल मजहर हुसैन अपना लाइसेंसी बंदूक लेकर दूसरे पक्ष को डराता धमकाता रहा।

पीड़ित पक्ष का कहना है कि इसके पहले भी विरोधी पक्ष कई बार उनपर जानलेवा हमला कर चुका है। पीड़ित पक्ष पड़ोस में बसे एक कुशवाहा परिवार की सुविधा के लिए अपने हिस्से की जमीन से रास्ता दिया है। इसी बात से विरोधी पक्ष खुन्नस में है।

इस सिलसिले में शहर कोतवाल ने बताया कि रास्ते के विवाद को लेकर दो पक्ष आमने-सामने आ गए थे। दोनों पक्षों से दो लोगों का 151 में चालान किया  गया है। एक सवाल पर उन्होंने माना कि सरेआम असलहे लहराना अपराध की श्रेणी में आता है और जांच कर असलहे का लाइसेंस निरस्त कराने की सिफारिश की जाएगी।

मालूम हो कि जिले भर में धारा 144 लागू है। उसके तहत सरेआम असलहे के प्रदर्शन पर पाबंदी है। बावजूद चौकिया गांव में इस तरह असलहा लहराने की घटना मामूली नहीं कही जा सकती है।

 

यह भी पढ़ें—वाह शम्मी! मदद की नींव पर…

आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

Related Articles

Back to top button
AllEscortAllEscort