अपराधब्रेकिंग न्यूज

सन्नी गैंग के और चार सदस्यों पर ईनाम घोषित, लूटे गए सभी असलहे बरामद!

गाजीपुर। बहुचर्चित देवचंदपुर कांड के मुख्य आरोपित कुख्यात कर्मवीर उर्फ सन्नी सिंह की गिरफ्तारी पर पुलिस दूसरे दिन गुरुवार को भी कुछ नहीं बोल रही है। हालांकि खबर है कि गैंग के हाथों मौके से लूटी गई राइफल तथा दो बंदूकें सन्नी सिंह की निशानदेही पर बरामद हो गईं हैं। उधर गैंग के अन्य फरार चार सदस्यों सुंदर सिंह उर्फ धनजी गोशंदेपुर, चंदन उर्फ राणा सिंह मंगारी भीमापार सहित सन्नी सिंह का  करीबी रिश्तेदार गौरव सिंह उर्फ सन्नी और  बड़ा भाई अरविंद सिंह के सिर पर 25 हजार रुपये का ईनाम घोषित हुआ है। इन सभी के चेहरे भी घटना स्थल पर सीसीटीवी कैमरे में कैद थे।

गैंग सरगना कर्मवीर उर्फ सन्नी सिंह बुधवार की दोपहर नाटकीय अंदाज में सरजू पांडेय पार्क में सामने आया था। वह अपने हाथ में चार्ट पेपर लहरा रहा था। उस पर पेन से मोटे अक्षरों में अंकित था-मैं कर्मवीर सिंह सन्नी हूं, देवचंदपुर सैदपुर। उसके बाद पुलिस उसे पकड़ कर अज्ञात स्थान पर लेकर चली गई थी।

यह भी पढ़ें–…और तमतमा गईं चंदा

माना जा रहा है कि पुलिस फिलहाल लूटे गए असलहों की बरामदगी तक उसकी गिरफ्तारी जाहिर नहीं करेगी। अब जबकि असलहों की बरामदगी की खबर आ रही है तो संभव हो कि एक-दो दिन में पुलिस उसको मीडिया के सामने ला देगी। उधर धनजी सिंह पर ईनाम घोषित होने के बाद पुलिस उसके गांव करंडा थाने के गोशंदेपुर पहुंची और जेसीबी मंगवा कर उसकी चाहरदीवारी ढहवा दी।

मालूम हो कि 14 अक्टूबर की रात सन्नी सिंह अपने गैंग के साथ अपने ही गांव देवचंदपुर के पेट्रोल पंप पर पहुंचा था। गैंग ने अपनी दोनों गाड़ियों में तेल भरवाया था। उसके बाद हुए नाहक विवाद में सन्नी और उसके शॉर्प शूटर आनंद उर्फ ढोलक सिंह ने गोली मारकर मौके पर मौजूद गांव के ही त्रिभुवन सिंह की हत्या और उनके सगे चचेरे भाई शिवमूरत को जख्मी कर दिया था। उसके बाद गैंग जाते वक्त पंप पर रखी लाइसेंसी राइफल, दो बंदूक, कैश बॉक्स की नकदी और पंप मालिक के भाई की सोने की चैन लूट लिए थे। इस मामले में पंप मालिक के भाई अजय पांडेय ने सन्नी सिंह तथा ढोलक सिंह को नामजद और दस अज्ञात के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई। फिर तो पुलिस सन्नी और उसके गैंग के पीछे हाथ धोकर पड़ गई। सन्नी और ढोलक के सिर पर 50 हजार रुपये का ईनाम रख दिया। देवचंदपुर में सन्नी के अवैध निर्माण को ढहा दिया गया। घटनास्थल के सीसीटीवी से अज्ञातों में पहचाने गए लालबहादुर उर्फ दीपक सिंह निवासी नारी पचदेवरा थाना करंडा तथा अमन उर्फ सूरज पांडेय देवापार झलरिया सादात को बीते मंगलवार की सुबह औड़िहार जंक्शन के पास से गिरफ्तार कर लिया गया।

Related Articles

Back to top button