अपराधब्रेकिंग न्यूज

कुख्यात सन्नी सिंह और उसके शॉर्प शूटर ढोलक सिंह को मीडिया के सामने पेश किए पुलिस कप्तान

गाजीपुर। सैदपुर कोतवाली के बहुचर्चित देवचंदपुर कांड के नामजद अभियुक्त कुख्यात कर्मवीर उर्फ सन्नी सिंह और उसके शॉर्प शूटर आनंद उर्फ ढोलक सिंह को पुलिस कप्तान डॉ.ओमप्रकाश सिंह ने शनिवार की दोपहर मीडिया के सामने पेश किया। बताए कि दोनों को शुक्रवार की शाम तरांव मोड़ रेलवे क्रासिंग के पास इनकी गिरफ्तारी हुई। इनके कब्जे से लूटी गई राइफल, दो बंदूक सहित घटना में प्रयुक्त नाइन एमएम पिस्तौल व देशी पिस्तौल और बाइक बरामद हुई।

यह भी पढ़ें–लंका मैदान में नहीं लगेगा दशहरा मेला

पुलिस कप्तान के अनुसार यह कामयाबी सैदपुर कोतवाली, करंडा पुलिस व स्वाट टीम की साझी कार्रवाई में मिली। दोनों देवचंदपुर गांव के ही रहने वाले हैं। सन्नी सिंह सैदपुर कोतवाली का हिस्ट्रीशीटर है। उसके विरुद्ध सैदपुर कोतवाली तथा नंदगंज थाने में कुल दस जबकि ढोलक सिंह पर सैदपुर कोतवाली में छह मामले दर्ज हैं। पुलिस कप्तान ने बताया कि गिरफ्त में आए सन्नी सिंह और उसके साथी ढोलक सिंह की निशानदेही पर घटनास्थल से लूटे गए तीनों लाइसेंसी असलहे देवचंदपुर की एक गड़ही में फेंके मिले। देवचंदपुर कांड के बाद दोनों के सिर पर 50 हजार का ईनाम घोषित था। हालांकि सन्नी सिंह के बीते बुधवार को ही दोपहर नाटकीय अंदाज में पुलिस के सामने सरेंडर करने की बात आई थी। उस वक्त का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। उसमें पुलिस कर्मी तो नहीं दिख रहे थे लेकिन सन्नी सिंह के हाथों में चार्ट पेपर था। उस पर पेन से मोटे अच्छरों में लिखा था-मैं कर्मवीर उर्फ सन्नी सिंह हूं। देवचंदपुर कोतवाली सैदपुर। हालांकि पुलिस अधिकारी आखिर तक उसकी पुष्टि नहीं किए थे।

मालूम हो कि 14 अक्टूबर की रात सन्नी सिंह अपने गैंग के साथ देवचंदपुर के पेट्रोल पंप पर पहुंचा था। गैंग ने अपनी दोनों गाड़ियों में तेल भरवाया था। उसके बाद हुए नाहक विवाद में सन्नी और उसके शॉर्प शूटर आनंद उर्फ ढोलक सिंह ने गोली मारकर मौके पर मौजूद गांव के ही त्रिभुवन सिंह की हत्या और उनके सगे चचेरे भाई शिवमूरत को जख्मी कर दिया था। उसके बाद गैंग जाते वक्त पंप पर रखी लाइसेंसी राइफल, दो बंदूक, कैश बॉक्स की नकदी और पंप मालिक के भाई की सोने की चैन लूट लिए थे। इस मामले में पंप मालिक के भाई अजय पांडेय ने सन्नी सिंह तथा ढोलक सिंह को नामजद और 12 अज्ञात के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई। घटनास्थल के सीसीटीवी से अज्ञातों में पहचाने गए लालबहादुर उर्फ दीपक सिंह निवासी नारी पचदेवरा थाना करंडा तथा अमन उर्फ सूरज पांडेय देवापार झलरिया सादात को बीते मंगलवार की सुबह औड़िहार जंक्शन के पास से गिरफ्तार कर लिया गया  था जबकि अन्य चार सुंदर सिंह उर्फ धनजी गोशंदेपुर, चंदन उर्फ राणा सिंह मंगारी भीमापार सहित सन्नी सिंह का करीबी रिश्तेदार गौरव सिंह उर्फ सन्नी और बड़ा भाई अरविंद सिंह के सिर पर 25 हजार रुपये का ईनाम घोषित हो चुका है।

पुलिस कप्तान ने मीडिया से बातचीत में दावा किया कि शेष फरार अभियुक्त भी शीघ्र ही गिरफ्त में होंगे। घटनास्थल के सीसीटीवी कैमरे से उनकी भी पहचान कर ली गई है।

Related Articles

Back to top button
AllEscortAllEscort