ब्रेकिंग न्यूजराजनीति

कनेरी कांड: यदुवंशियों में फूट! ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि के पक्ष में आगे आए समाज के इलाकाई चौधुर

गाजीपुर। सादात थाने के बहुचर्चित कनेरी कांड सियासी तूल पकड़ लिया है। अब यदुवंशी समाज के इलाकाई ‘चौधुर’ ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि कमलेश सिंह हकाड़ू के पक्ष में खुलकर आ गए हैं।

यह भी पढ़ें—अफजाल अंसारी: फिर भी दिल है समाजवादी!

सादात के पूर्व ब्लाक प्रमुख धर्मदेव यादव के आवास पर सोमवार को यदुवंशी समाज की बैठक हुई। उसमें समाज के इलाकाई चौधुर पहुंचे थे। साथ ही समाज के पंचायत प्रतिनिधियों की भी संख्या कम नहीं थी। सबने एक स्वर से घटना के लिए माफिया संजय यादव और उसके भाई ओमकार यादव को जिम्मेदार ठहराया। कहा कि कनेरी गांव में पहुंचे ओमकार यादव का अंदाज उकसाने वाला था और उनके संग हकाड़ू सिंह की मारपीट की कथित घटना को यदुवंशी समाज पर हमले से जोड़ना सरासर गलत है। बैठक में यहां तक कहा गया कि पहले हकाड़ू सिंह को उकसाना और उन्हें फोकस में लेकर वीडियो बना कर उसे सोशल मीडिया पर वायरल करना साबित करता है कि पूरा घटनाक्रम पूर्व नियोजित था। बाद में इस घटना के विरोध में सड़क पर उतरने वाले यदुवंशी समाज के नौजवान भी गुमराह किए गए। खुद उनको पता नहीं था अथवा न उन्हें किसी ने बताने की जरूरत ही समझी थी कि माफिया संजय यादव के हाथ यदुवंशी समाज के भी खून से रंगे हैं। इस मौके पर साफ कहा गया कि माफिया संजय यादव की सादात इलाके में किसी तरह की राजनीतिक गतिविधि का बहिष्कार किया जाएगा।

बैठक में मौजूद ग्राम प्रधानों में किशोर यादव (मिर्जापुर), रामसमुझ यादव (गदाईपुर), महेंद्र यादव (भरतपुर), रमेश यादव (वृंदावन), महेंद्र यादव (मजुई), राणा यादव (खाजेपुर), श्यामसुंदर (कबीरपुर), निसार अहमद (बहरियाबाद), वंशराज यादव (बबूरा), यशवंत यादव (आसपुर), करिया यादव (बोझवा), प्रमेश यादव (हरतरा), धर्मपाल यादव (खजुरहट), भंगा यादव (छपरा), परमहंस यादव (पिपनार), रामविलास यादव (महमूदपुर अकतुल्ला), राजेश यादव (नगवा), राधेश्याम यादव (कथवलिया), जयप्रकाश यादव (खलीलपुर), लालचंद यादव (खुरमूजपुर) आदि थे।

यह था पूरा घटनाक्रम

मालूम हो कि संजय यादव का भाई ओमकार यादव अपना काफिला लेकर कनेरी गांव में पहुंचा था। उस दौरान उसके साथ सादात ब्लाक प्रमुख कमलेश सिंह हकाड़ू की मारपीट की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। उसके बाद युवा यादव महासभा के कुछ नेता निषेधाज्ञा और कोविड-19 का प्रोटोकॉल तोड़ कर जिला मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन किए थे।

…और सपा में भी हकाड़ू सिंह के पक्षकार

गाजीपुर। यदुवंशी समाज की तरह कनेरी कांड को लेकर सपा में भी एकमत नहीं है। जहां माफिया संजय यादव के भाई ओमकार यादव के साथ सादात ब्लाक प्रमुख के मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद ही सपा के कुछ नेता जिलाध्यक्ष रामधारी यादव की अगुवाई में डीएम, एसपी से मिलकर हकाड़ू सिंह की गिरफ्तारी के मांग किए वहीं इसको लेकर पार्टी के बड़े धड़े में तीखी प्रतिक्रिया शुरू हो गई। हालांकि यह प्रतिक्रिया सार्वजनिक रूप से नहीं जताई जा रही है लेकिन आपसी चर्चा में यह जरूर कहा जा रहा है कि पार्टी के जिला नेतृत्व का कदम बिल्कुल पार्टी के सिद्धांत के विपरीत है। आमजन में यह संदेश गया है कि पार्टी एक जाति विशेष की है और उस जाति विशेष के अपराधी तत्वों की पैरोकार है। यह भी कहा जा रहा है कि सादात ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि कमलेश सिंह हकाड़ू सपा के ही नेता हैं। हर मौके पर और हर चुनाव में सपा के साथ मजबूती से खड़े रहते हैं। इस दशा में उन्हीं के खिलाफ पार्टी के जिला नेतृत्व का डीएम, एसपी के पास जाना बिल्कुल गलत था। अगर हकाड़ू सिंह की कोई गलती है तो जिला नेतृत्व के पास पहला विकल्प यही था कि उनसे जवाब तलब किया जाता और दोषी मिलने पर अनुशासनहीनता की कार्रवाई की जाती।

Related Articles

Back to top button
AllEscortAllEscort