अपराधब्रेकिंग न्यूज

अब मुख्तार के होटल ‘गज़ल’ में प्रशासन को मिला फर्जीवाड़े का एंगल

गाजीपुर। बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के ‘काले  साम्राज्य’ को नेस्तनाबूत करने पर आमादा योगी सरकार की   नजर में उनका होटल गज़ल भी है।

यह भी पढ़ें—बाप के दोस्त की खोल में ‘भेड़िया’

मुख्तार एंड कंपनी के विरुद्ध चल रहे अभियान की शुरुआत में ही प्रशासन गज़ल की इमारत में खामियां ढूढने की कोशिश की थी। बात बीते 24 जून की है। सदर एसडीएम प्रभास कुमार पूरे लावलश्कर के साथ होटल गज़ल पहुंचे थे। संभवत: प्रशासन को इनपुट मिला था कि इसका निर्माण अवैध कब्जे के भूखंड पर हुआ है। एसडीएम की टीम ने उस भूखंड की चौतरफा पैमाइश कराई मगर अवैध कब्जे की पुष्टि नहीं हुई थी। अलबत्ता उसी क्रम में मुख्तार के फतेउल्लाहपुर स्थित गोदाम के भूखंड की भी पैमाइश कराई गई थी और वहां अवैध कब्जे में हुए निर्माण को ढहवा दिया गया था।

अब जबकि प्रशासन ने होटल गज़ल के भूखंड के दस्तावेजों का मुआयना करवाया तो इसमें खरीद फरोख्त में फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है। इस मामले में मुख्तार की बीवी और दोनों बेटों अब्बास अंसारी तथा उमर अंसारी सहित कुल 12 लोग संलिप्त पाए गए हैं। इन सभी के खिलाफ शहर कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराई गई है। अफसा अंसारी के विरुद्ध शहर कोतवाली में यह दूसरी एफआईआर है। कुछ ही दिन पहले गैंगस्टर एक्ट के तहत अफसा अंसारी तथा उनके दोनों भाइयों पर एफआईआर दर्ज हुई थी। उस मामले में गैंगस्टर कोर्ट तीनों लोगों के विरुद्ध गैर जमानती वारंट भी जारी कर चुकी है। उधर मुख्तार के दोनों बेटों को फरार करार कर उन पर 25 हजार रुपये नकद का ईनाम घोषित कर दी है।   लखनऊ पुलिस के लिए वह हजरतगंज कोतवाली में दर्ज मामले में वांछित हैं। उसमें आरोप है कि लखनऊ के पॉश इलाके डालीगंज में स्थित शत्रु संपत्ति के भूखंड पर कब्जा कर निर्माण कराने का है। लखनऊ विकास प्रधिकरण (एलडीए) उस निर्माण को ढहवा चुका है।

हममजहबियों की लगती थी अड़ी

गाजीपुर शहर के मध्य महुआबाग में बने होटल गज़ल के निचले तल में कुल 15 दर दुकानें हैं जिन्हें कपड़ा, बर्तन, सराफा वगैरह के व्यवसायियों ने किराए पर ले रखा है। इसके अलावा एचडीएफसी बैंक की शाखा तथा एटीएम भी इसी बिल्डिंग में है। उसके ऊपरी तल में रेस्टोरेंट तथा होटल के सुसज्जित कमरे हैं। इस बिल्डिंग के बनने के बाद उसके आसपास मुख्तार अंसारी के हममजहबी शहरी युवकों की वहां अड़ी भी लगने लगी थी लेकिन मुख्तार पर योगी सरकार की भृकुटी तनने के साथ ही वह अड़ी टूटने लगी है। 

Related Articles

Back to top button
AllEscortAllEscort